गुरुवार, 16 जून 2022

गीतिका नई-नई हैं


 गीतिका

मापनी ~ 1212 212 122 1212 212 122


बिछा रही प्रेम पुष्प पथ पर प्रबुद्ध रातें नई-नई हैं।

करे सुवासित तथा प्रकाशित विबुद्ध बातें नई-नई हैं।।


पुनीत संस्कृति सदैव खंडित करे यहाँ पर विमूढ़ जनता।

प्रहार पे फिर प्रहार देती विरुद्ध जातें नई-नई हैं।।


अभी जली भी नही चिता वो बजा रहे ढोल कुछ नगाड़े।

निहारती आँख पूड़ियों को अबुद्ध पातें नई-नई हैं।


सिसक रही रोटियाँ करों में पुकारती कोख आज सूनी।

उजाड़ माँगे करें प्रताड़ित निरुद्ध लातें नई-नई हैं।


सदा छला प्रीत के हृदय को स्पृहा जगाती सुसुप्त मन में।

विकार बन के बरस पड़ी ये विशुद्ध घातें नई-नई हैं।।


बहा रहे दूध नालियों में रहे कुपोषित भविष्य विदुषी।

चिपक रही देह अस्तियों से अशुद्ध आतें नई-नई हैं।।


नीतू ठाकुर 'विदुषी'

11 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी लंबी मापनी पर शिल्प साधना तथा अपनी बात को मात्रा पतन के बिना कह पाना ही अपने आप में बहुत बड़ी बात है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. नमन गुरुदेव 🙏
      सादर धन्यवाद 🙏
      आपके उदाहरण से प्रेरित यह रचना आपको पसंद आई लेखन सार्थक हुआ 🙏

      हटाएं
  2. कठिन मापनी पर अद्भुत सृजन बेहद खूबसूरत

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहद खूबसूरत सृजन सखी 👌👌

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शनिवार (18-06-2022) को चर्चा मंच     "अमलतास के झूमर"  (चर्चा अंक 4464)     पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य यह है कि आप उपरोक्त लिंक पर पधार कर चर्चा मंच के अंक का अवलोकन करे और अपनी मूल्यवान प्रतिक्रिया से अवगत करायें।
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'    

    जवाब देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर गीतिका कठिन मापनी पर सहज सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह! बहुत बढ़िया सराहनीय सृजन।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  8. उत्कृष्ट प्रस्तुति...👍👍👍

    जवाब देंहटाएं

गीतिका नई-नई हैं

 गीतिका मापनी ~ 1212 212 122 1212 212 122 बिछा रही प्रेम पुष्प पथ पर प्रबुद्ध रातें नई-नई हैं। करे सुवासित तथा प्रकाशित विबुद्ध बातें नई-नई ...