google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर ......नीतू ठाकुर

शनिवार, 17 फ़रवरी 2018

अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर ......नीतू ठाकुर

अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर... 
जो दिल को चीरकर लहूलुहान कर दे
धज्जियाँ उड़ा दे इज्जत की
स्वाभिमान बेजान कर दे
दफ़न होती सिसकियों का
जीना हराम कर दे
अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर.... 
जो वजूद मिटाते थे
मुझे मुझसे ही छीनकर
मेरी नजरों में गिराते थे
घूरते थे मुझको
मेरी औकात दिखाते थे
मेरी लाचारी मेरी बेबसी का
तमाशा बनाते थे
अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर... 
जो गिनते थे मेरी रोटी के टुकड़े
मेरे कपड़ों के एहसान और
खिदमत में गुजारी ज़िंदगी के बदले में
दिया तुम्हारा नाम
अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर.... 
जो मेरे प्यार और समर्पण को झूठा बनाते थे
खड़ा करते थे मुझे कटघरे में
मुकदमा चलाते थे
रुलाते थे मेरी आत्मा को
गद्दार,बेकार ,गैरजिम्मेदार कहकर
अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर.... 
जो ज़िंदगी में खलल मचाते थे
मुझसे मेरा सब कुछ छीन कर
मुझे ही मुजरिम बनाते थे
अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर.... 
क्यों की मर चुकी है वो आत्मा
जो तुझ पर अपनी जान कुरबान कर दे
तेरे पैरों की धुल बनकर
ज़िंदगी तेरे नाम कर दे
        - नीतू ठाकुर  

33 टिप्‍पणियां:

  1. व्यथित और एक टूटे हुए मन का वीतराग.... बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय बहुत बहुत आभार

      हटाएं
    2. नीतू जी बेहद ही खुबसूरत पंक्तिया लिखी आपने....

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (18-02-2017) को "कुन्दन सा है रूप" (चर्चा अंक-2884) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह.
    निशब्द.
    एक टूटे हुए दिल के दर्द को बखूबी बयान किया है आपने नीतू जी.बहुत उम्दा सृजन.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया आप की सुंदर प्रतिक्रिया के लिए

      हटाएं
  4. भावातिरेक में सब कुछ याद आता है उसी व्यथा कथा को बहुत मर्मान्तक शब्द दे दिए आपने नीतू जी | सराहनीय सृजन !!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर प्रतिक्रिया
      शुक्रिया आप की सुंदर प्रतिक्रिया के लिए

      हटाएं
  5. अब नहीं चुभते तेरे शब्दों के तीर
    क्योंकि मर चुकी है वो आत्मा
    जो तुझ पर अपनी जान कुर्बान कर दे
    तेरे पैरों की धूल बनकर
    जिंदगी तेरे नाम कर दे !

    उत्तर देंहटाएं
  6. वेदना,समर्पण और स्वाभिमान का मर्मांतक चित्रण !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      सुंदर प्रतिक्रिया

      हटाएं
  7. अंतरात्मा को झंकझोरती हुई रचना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया आप की सुंदर प्रतिक्रिया के लिए

      हटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (19-02-2018) को "सौतेला व्यवहार" (चर्चा अंक-2885) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  9. उत्तर
    1. आदरणीय बहुत बहुत आभार
      सुंदर प्रतिक्रिया

      हटाएं
  10. निमंत्रण :

    विशेष : आज 'सोमवार' १९ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच ऐसे ही एक व्यक्तित्व से आपका परिचय करवाने जा रहा है जो एक साहित्यिक पत्रिका 'साहित्य सुधा' के संपादक व स्वयं भी एक सशक्त लेखक के रूप में कई कीर्तिमान स्थापित कर चुके हैं। वर्तमान में अपनी पत्रिका 'साहित्य सुधा' के माध्यम से नवोदित लेखकों को एक उचित मंच प्रदान करने हेतु प्रतिबद्ध हैं। अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह!!नीतू ,कितना सुंंदर लिखती हैं आप ।आपकी कलम को मेर नमन ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ... कितना दर्द लिख दिया आपने...अब नहीं चुभते शब्दों के तीर...क्रोध की अभिव्यक्ति कविता की गहराई से अवगत करा रहीं है . इतना ही अच्छा लिखते रहे आप यही शुभकामनाएं रहेगी सदा ... धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ... कितना दर्द लिख दिया आपने...अब नहीं चुभते शब्दों के तीर...क्रोध की अभिव्यक्ति कविता की गहराई से अवगत करा रहीं है . इतना ही अच्छा लिखते रहे आप यही शुभकामनाएं रहेगी सदा ... धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच है एक सीमा के बाद दर्द आदत में तब्दील हो जाती है
    बहुत सही

    उत्तर देंहटाएं
  15. दर्द जब हद से गुज़र जाए तो विद्रोह हो जाना चाहिए ...
    किसी को इतना दर्द देना ठीक नहीं और न ही इतना सहना ... बाँधना टूट जाना ही बेहतर ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 10/04/2018 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. जब आपकी सहृदयता को आपकी लाचारी समझाा जाए तो ठीक यही शब्‍द निकलते हैं...आपने इन्‍हें कविता में ढालकर दर्द को रागमय बना दिया नीतू जी...

    उत्तर देंहटाएं

बेखौफ लहरें .....नीतू ठाकुर

जरा तहज़ीब सिखलाये , कोई बेखौफ लहरों को  जो अक्सर तोड आती हैं , कड़े सागर के पहरों को  सुनाती हो भला क्यों यूँ , प्रलय का गीत बहरों...