google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : मै दर्द की एक परछाई हूँ .....नीतू ठाकुर

बुधवार, 28 फ़रवरी 2018

मै दर्द की एक परछाई हूँ .....नीतू ठाकुर


मै दर्द की एक परछाई हूँ 
अश्कों में नहा कर आई हूँ 
मै भी तन्हा हूँ तेरी तरह 
इस दुनिया की ठुकराई हूँ 

इस दिल में छुपी उदासी हूँ 
मै भी चाहत की प्यासी हूँ 
अनचाहा सा एहसास हूँ मै 
फिर भी हर दिल के पास हूँ मै 

हर गम की साझीदार हूँ मै 
अपने दिल से बेजार हूँ मै 
मै भी कुदरत की तराशी हूँ 
जाने क्यों आज रुआंसी हूँ 

मै तेरे दिल की दासी हूँ 
माना की जरा जुदा सी हूँ 
आती हूँ एक बुलावे पर  
पर खुद कितनी तन्हा सी हूँ 

दो तन्हा दिल मिल जाएँ तो 
शायद हालात बदल जाये 
ये आलम बड़ा उदास सा है 
दो तन्हा दिल बहल जाएँ  

कुछ गम तेरे मै बाटूंगी 
कुछ हाल हमारा सुन लेना 
हर शर्त तेरी मंजूर मुझे 
जो मर्जी हो वो चुन लेना 

         - नीतू ठाकुर 

27 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर
    होली की शुभकामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आप का
      आप को भी होली की ढेर सारी शुभकामनाएं

      हटाएं
  2. वाह!!बहुत सुंदर नीतू जी .

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (02-03-2017) को "जला देना इस बार..." (चर्चा अंक-2897) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    रंगों के पर्व होलीकोत्सव की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार

      हटाएं
  4. बहुत उम्दा।
    शब्द शब्द उदासी।
    रुह तक ज्यों प्यासी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत सुंदर ....बहुत बहुत आभार

      हटाएं
    2. कोंपल हो तुम तो अभी फिर
      क्यु उदासी छायी है
      परिवार भी तो है तेरा
      क्यो खुशी नही छायी है
      अभी तो छूना है आकाश तुझे
      बहुत ही दूर ऊँचाई है
      अभी अभी तो आई हो
      फिर क्यो उदासी छायी है

      हटाएं
  5. बहुत हृद्त्सप्र्शी रचना प्री नीतू जी -- जब दो उदास मन एकाकार हो जातें हैं तभी बात बनती है | सस्नेह आभार इस भावपूर्ण सृजन के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंन्दर रचना। दर्द का सागर जैसे हिलोरें ले रहा हो । लाज़वाब
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच है उदासी बाँटलेने से कम हो जाती है ...
    ताम्बा दिल मिल के आशियाना ढूँढ लेते हैं ... बहुत भावपूर्ण रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक ५ मार्च २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/03/59.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. दर्द की परछाई.... बहुत ही सुन्दर.... बहुत लाजवाब...
    हर गम की साझेदार हूँ मैं...वाहवाह...
    लाजवाब सृजन ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार..सुंदर प्रतिक्रिया

      हटाएं
  11. उदासी और अंतस के अकेलेपन को समेटे सुन्दर संवाद है ...
    दर्द अगर बाँट सके कोई तो आधा हो जाता है दोनों का ... जीना आसान हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत सुंदर प्रतिक्रिया..... धन्यवाद

      हटाएं
  12. हृदयस्पर्शी बहुत सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं

इल्म की सौगातें.... नीतू ठाकुर

इंतजार, इजहार, गुलाब, ख्वाब, वफ़ा, नशा उसे पाने की कोशिशें तमाम हुई, आजमाइशें सरेआम हुई अदब, कायदा, रस्में, रवायतें, शराफत, नेकी  ...