गुरुवार, 9 जुलाई 2020

शतकवीर (कुण्डलीयाँ शतकवीर कलम की सुगंध सम्मान 2020)


शून्य से शतक तक (एक संस्मरण)

गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर आदरणीय गुरदेव संजय कौशिक 'विज्ञात' जी द्वारा "कुण्डलीयाँ शतकवीर कलम की सुगंध सम्मान 2020" पाना मेरे लिए किसी स्वप्नपुर्ति से कम नही। लगभग एक वर्ष पूर्व जब "ये दोहे गूँजते से " साझा संग्रह के निमित्त मेरा गुरुदेव से परिचय हुआ तब यह आभास भी नही था कि मेरी आत्मसुखाय छंदमुक्त लेखनी कभी मात्राभार में बंध कर कुण्डलीयाँ जैसे कठिन छंद पर लिखेगी। पर यह गुरुदेव की असीम कृपा व अथक परिश्रम का परिणाम है कि सिर्फ मै ही नही बल्कि कलम की सुगंध छंदशाला से जुड़ी हर कलम ने भरपूर प्रयास किया और इस आयोजन को एक चुनौती के रूप में स्वीकार कर इसे सफल बनाया।
     
       16 दिसंबर से इस आयोजन का शुभारंभ हुआ पर उससे पूर्व ही "कलम की सुगंध नवांकुर" मंच का निर्माण हुआ यह मंच उन रचनाकारों के लिए था जिन्हें इस विधा के विषय में तनिक भी ज्ञान नही था। इस लिए इस विधा को सिखाने के लिए आदरणीय गुरुदेव ने मात्रा भार से सिखाना प्रारंभ किया। वो समय हम सभी के लिए अविस्मरणीय है क्योंकि एक ओर इस विधा को सीखने की इच्छा और दूसरी ओर अज्ञान वश कुण्डलीयाँ में हो रही त्रुटियां। एक कुण्डलीयाँ न जाने कितनी ही बार संशोधित की जाती फिर भी मन में भय बना रहता था कि सही लिखी  है या नही। उस प्रारंभिक समय ने गुरुदेव की अथाह सहनशक्ति का परिचय दिया। हमारी आँख खुलने से पूर्व ही गुरुदेव रात में लिखी कुण्डलियों की समीक्षा कर देते और कभी कभी देर रात तक समीक्षा देते थे। यह उनके अथक परिश्रम का फल था जो सभी को लिखने के लिए प्रेरित करता रहा। बार बार एक ही त्रुटि करने पर भी गुरुदेव कभी क्रोधित नही हुए बल्कि पुनः समझाने का प्रयास करते थे। उनकी इसी विनम्रता ने सबको उनका ऋणी बना दिया। व्हाट्सएप और फेसबुक के जमाने में सिखाने वाले गुरुओं की कमी नही है फिर भी हम दृढ़ विश्वास से कह सकते हैं कि जितनी लगन और तन्मयता से हमारे गुरुदेव ने सिखाया एक छोटा सा शिशु समझकर इस प्रकार इतना समय और अपनत्व देकर कोई नही सिखाता। प्रतिदिन सैकड़ों रचनाओं की समीक्षा करना सरल कार्य नही है पर गुरुदेव की मेहनत रंग लाई और सभी की कलम चलने लगी।

गुरुदेव ने सिर्फ कुण्डलीयाँ लिखना ही नही सिखाया बल्कि उन्हें समझना भी सिखाया। कुण्डलीयाँ शतकवीर ने मंच को जहाँ कई कुण्डलीयाँकार दिए वहीं दर्जनों समीक्षक भी उपजे। जिस तरह शिल्पकार पत्थर को सुंदर मूर्ति का आकार देता है उसी प्रकार गुरुदेव ने हम सब के भीतर छुपी प्रतिभाओं को उभारा और उन्हें सही दिशा दिखाई। उनके मार्गदर्शन का ही परिणाम है कि कलम की सुगंध एक मंच कम परिवार ज्यादा लगता है।

    वीणापाणी , हंसवाहिनी और सरस्वती तीन समीक्षक समूह की स्थापना की गई और तीनों समूहों के मुख्य समीक्षक आदरणीय बाबुलाल शर्मा 'विज्ञ' जी , इन्द्राणी साहू 'साँची' जी ,और अर्चना पाठक 'निरंतर' जी नियुक्त किये गए। उनकी सक्रियता ने पटल को प्रारंभ से लेकर अंत तक ऊर्जावान बनाये रखा। एक दूसरे को पढ़ना और उनके भाव समझना हमने तभी सीखा। मंच संचालिका आदरणीया अनिता मंदिलवार सपना जी ने सभी को एक सूत्र में बांधे रखा और एक उत्कृष्ठ संचालिका के रूप में स्वयं को प्रमाणित किया। उनका मंच संचालन निःसंदेह प्रेरणादायक रहा है।

     मंझे हुए कलमकार और नवांकुरों का अद्भुत मिश्रण बन गया था कलम की सुगंध छंदशाला मंच। जहाँ एक ओर जानकार अपना अनुभव साझा कर रहे थे वहीं दूसरी ओर नवांकुर गुरुदेव के मार्गदर्शन में नित नए प्रयोग कर रहे थे। सभी एक दूसरे के लिए प्रेरणा बने हुए थे। जब प्रथम कुण्डलीयाँ लिखी तब यह सफर बहुत लंबा लग रहा था और मन में शंका थी कि इतना लंबा समय पार कर भी पाएंगे या लेखनी साथ छोड़ देगी। पर जब कुण्डलीयाँ शतकवीर खत्म हुआ तो मन में एक अद्भुत आनंद के साथ साथ दुःख भी था कि कुछ पीछे छूट रहा है। वह उत्साह व प्रतीक्षा जो संध्या होते ही मन में उभरती और रात्रि में थक कर सो जाती ताकि पुनः नई ऊर्जा लेकर कुछ अच्छा सृजन करे।

     कुसी भी विधा में एक दो रचनाएँ लिख कर कोई जानकार नही हो जाता पर 100 रचनाएँ इस बात की पुष्टि अवश्य करती है कि इस कलम की धार बहुत तेज है। कुण्डलीयाँ कि गणना 10 मुश्किल छंदों में होती है और इसे सीखने से एक साथ 2 और  छंद सीखने का अवसर मिला। जैसा कि आप जानते ही होंगे कि कुण्डलीयाँ- दोहा+रोला से बनता है तो इसका लाभ सभी नवांकुरों को मिला और उनकी कलम अलग अलग छंद लिखने को तत्पर दिखी। छंद का आनंद ही कुछ और है जिसे एक छंदकार ही समझ सकता है। छंदमुक्त लिखकर हम भावाभिव्यक्ति तो कर सकते हैं पर स्वयं की कलम को बांध कर लिखना और उसमें भी अपने भाव व्यक्त कर लेना स्वयं के लिए चुनौती है जिसे जीतने के बाद खुद पर ही गर्व करने का मन होता है।

     यह मेरे जीवन का प्रथम शतकवीर था और मै ईश्वर की  हॄदय से आभारी हूँ  जिन्होंने मुझे कलम की सुगंध परिवार से जोड़ा और इतने गुणीजनों के सानिध्य में सीखने का अवसर प्रदान किया। मै आदरणीय गुरुदेव संजय कौशिक 'विज्ञात' सर की विशेष आभारी हूँ जिनके विश्वास और उत्साहवर्धन ने मेरी रुकी हुई लेखनी को पुनर्जीवित किया। साथ ही उन सभी सखियों का हॄदय से आभार व्यक्त करती हूँ जो शतकवीर के निमित्त मंच से जुड़ी और अभी तक उसी प्रेम भाव व निष्ठा से लिखे जा रही हैं। शून्य से शतक तक की यात्रा में न जाने कितने ही खट्टे मीठे पल हमें दिए जिन्हें याद कर के चेहरे पर मुस्कान बिखर जाती है। शतकवीर ने कभी नवांकुरों को बढ़ते देखा तो कभी बड़ों को बच्चा बन मस्ती करते। वो सभी यादें आजीवन एक अनुपम उपहार बन कर हमारे साथ रहेंगी और हमें आभास करती रहेंगी की हमारी कलम कमजोर नही है।

विशेष:- जानती हूँ कि इस शतक वीर कार्यक्रम से प्रभावित होकर अनेक मंच ऐसे सम्मान देने के लिए प्रेरित अवश्य होंगे और शतकवीर सम्मान देना प्रारंभ भी कर देंगे  परंतु हमारे लिए गर्व की बात है कि शतकवीर सम्मान का प्रारंभ कलम की सुगंध मंच से हुआ। दोहा, रोला , मुक्तक , मनहरण घनाक्षरी के बाद यह कुण्डलीयाँ का पाँचवा शतकवीर सफल आयोजन रहा है और भविष्य में भी ऐसे आयोजन होते रहेंगे यही कामना करते हैं।

नीतू ठाकुर 'विदूषी'
@कुण्डलीयाँ शतकवीर कलम की सुगंध सम्मान 2020

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सम्मान का विषय है आदरणीया नीतू जी मैं भी कुँडलियाँ शतकवीर में शामिल थी मैने थी सीखा बहुत अच्छा लगा ।आपको ढेरों बधाइयाँ शुभकामनाएं 💐💐

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आपका ....स्नेहाशीष बनाये रखिये

      हटाएं
  2. कलम की सुगंध छंदशाला से जुड़कर शतकवीर तक का सफर हम सभी के लिए अविस्मरणीय है। बहुत सुंदर संस्मरण, बहुत-बहुत बधाई सखी।

    जवाब देंहटाएं
  3. जी नमस्ते ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (११-०७-२०२०) को 'बुद्धिजीवी' (चर्चा अंक- ३५६९) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  4. जी नमस्ते ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (११-०७-२०२०) को 'बुद्धिजीवी' (चर्चा अंक- ३५६९) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बहुत बधाई सखी💐💐सही कहा आपने, कहने को न जाने कितने मंच है व्हाट्सएप्प पर जो हिंदी साहित्य का ज्ञान देते है किंतु गुरुदेव जितनी मेहनत और सहनशीलता से हम सब को काव्य की विभिन्न विधाओं का ज्ञान देते है ,उसके लिए मैं जितना भी आभार प्रकट करूं कम है।आपने मुझे इतने पावन मंचो से जोड़ा, आपकी मैं सदैव ऋणी रहूंगी।शतकवीर का सफर तय करने की तैयारी में अब मैं भी हूं🙏🙏☺☺

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया 
      स्नेहाशीष बनाये रखिये 

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार आपका .....स्नेहाशीष बनाये रखिये 

      हटाएं
  7. उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद ....स्नेहाशीष बनाये रखिये 

      हटाएं
  8. बहुत सुन्दर अनुभव साझा किया है आपने ,सर्वप्रथम आपको ढेरों बधाईयाँ एवं शुभकामनाएं👏👏👏🎉🎉🌹🌹🌹।मुझे शतकवीर में शामिल होने का अवसर तो नहीं मिला ,परन्तु जब से मंच से जुड़ी हूँ तब से गुरुदेव के अथक परिश्रम की साक्षी मैं भी रही हूँ नवगीत विधा में उन्होंने जिस प्रकार से हमारा मार्गदर्शन किया हमें ऐसा लगा मानो फिर से कोई हमें उँगली पकड़ कर संभलकर लेखनी के दुनिया में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित कर रहा हो पल पल मिलता प्रोत्साहन और मार्गदर्शन ने हमारा नवगीत की विधा से केवल परिचय ही नहीं कराया अपितु श्रेष्ठ सृजन के रुप में पारितोषिक भी दिया ।और आप स्वयं इस सृजन में हमारी मार्गदर्शिका रहीं तो दिलसे आपका भी वन्दन🙏🙏🙏🙏💕💕💕

    जवाब देंहटाएं
  9. सुंदर !!
    बहुत शानदार प्रस्तुति।
    "शून्य से शतक तक" अभिनव शैली में लाजवाब संस्मरण।

    जवाब देंहटाएं

चित्र बनते काव्य जो...विपदा @ नीतू ठाकुर 'विदुषी'

गुरुदेव संजय कौशिक 'विज्ञात' जी के मार्गदर्शन में कलम की सुगंध कुटुंब द्वारा आयोजित चित्राधारित काव्य प्रतियोगिता हेतु.... चित्र बनत...