google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : वो आखरी खत जो तुमने लिखा था......नीतू ठाकुर

शनिवार, 23 दिसंबर 2017

वो आखरी खत जो तुमने लिखा था......नीतू ठाकुर


वो आखरी खत जो तुमने लिखा था 
तेरे हर खत से कितना जुदा था 

मजबूरियों का वास्ता देकर मुकर जाना तेरा 
गुनहगार वो वक़्त था या खुदा था 

बड़ी मुश्किल से संभाला था खुद को 
वो पल भी मुश्किल बड़ा था 

शिकायत करते तो किस से करते 
जब अपना मुकद्दर ही जुदा था 

जल रहे थे ख्वाब मिट रहे थे अरमान 
तू लाचार और मेरा प्यार बेबस खड़ा था 

मेरा दिल ही जनता है क्या गुजरी थी 
जब आंसुओं में डूबा वो आखरी खत पढ़ा था 

               - नीतू ठाकुर 

8 टिप्‍पणियां:

बेखौफ लहरें .....नीतू ठाकुर

जरा तहज़ीब सिखलाये , कोई बेखौफ लहरों को  जो अक्सर तोड आती हैं , कड़े सागर के पहरों को  सुनाती हो भला क्यों यूँ , प्रलय का गीत बहरों...