google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : फर्क नहीं पड़ता है कोई करते रहो बवाल ...नीतू ठाकुर

शुक्रवार, 19 जनवरी 2018

फर्क नहीं पड़ता है कोई करते रहो बवाल ...नीतू ठाकुर

त्राहि त्राहि करती है जनता देश  का बुरा हाल,
फिर भी देश के सारे नेता लगते हैं खुशहाल,
पूँजीपती  के हाथों में है देश का सारा माल,
फिर भी गूँगी बहरी जनता करती नहीं सवाल,
फर्क नहीं पड़ता है कोई करते रहो बवाल,

झूठे सपने सपने बेच रहीं हैं सरकारें बाजारों में,
आस लगाये बैठी जनता नेता घूमें कारों में,
अच्छे दिन की आस में सूखी रोटी हुई मुहाल,
डिग्री लेकर घूम रहें हैं देश के नौनिहाल, 
फर्क नहीं पड़ता हैं कोई करते रहो बवाल,

भूख गरीबी नाच रही है गलियों में चौबारों में,
फिर भी हलचल होती नहीं है देश के पालन हारों में,
विश्व के नक़्शे पर सोने की चिड़िया है कंगाल, 
नारी जब महफ़ूज रही हो नहीं है ऐसा साल, 
फर्क नहीं पड़ता है कोई करते रहो बवाल, 

देश के दुश्मन बन बैठें हैं देश की खातिर काल,
वीर जवानों की कुर्बानी से धरती है लाल, 
चाहे मुख पर कालिख मल दो चाहे करो हलाल, 
कैसे पूतों के हाथों में है ये ये देश विशाल, 
फर्क नहीं पड़ता है कोई करते रहो बवाल, 

                  - नीतू ठाकुर 

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (21-01-2018) को "साँसों पर विश्वास न करना" (चर्चा अंक-2855) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    --
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना सोमवार २२जनवरी २०१८ के विशेषांक के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितना भी बवाल करो देश में हालात नहीं सुधरेंगे.....
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार सुंदर प्रतिक्रिया।

      हटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना नीतू जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. वर्तमान समय की स्थिति को दर्शाती यह रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये बवाल तो मच रहा है और नेताओं का ख़ुशहाल हो रहा है ...
    सभी जगह बवाल मचा हुआ है आज ...
    सार्थक और सामयिक रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं

मनवा डोले जैसे हिंडोला ....नीतू ठाकुर

एक तरफ बाबुल की गलियाँ  एक तरफ संसार पिया का  किसको थामूं किसको छोडूं  दोनों हैं आधार जिया का  आगे कुँवा तो पीछे खाई  जगने ...