google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : आखरी वो सिसकियाँ.....नीतू ठाकुर

सोमवार, 12 मार्च 2018

आखरी वो सिसकियाँ.....नीतू ठाकुर



रेशमी चादर में लिपटी 
आखरी वो सिसकियाँ 
सूखते अश्कों से जाने 
कितना कुछ कहती रही 
एक कोना ना मिला 
छुपने को उसको मौत से 
आज परछाई से भी 
डरती रही छुपती रही 
याद करती परिजनों को 
वेदना से भर रही 
बीते लम्हों की चिता 
जलती रही बुझती रही 
जिंदगी के पृष्ठ पलटे जा रहा 
व्याकुल ये मन 
आखरी लम्हों में सारी 
जिंदगी भरती रही 
यादों के झोके उसे छूकर गए 
कुछ इस कदर 
भूल कर सारी व्यथा 
हसती रही रोती रही 
दर्द की है इंतहा 
ये आखरी तन्हा सफर 
जिंदगी की डोर जिसमें 
हर घडी कटती रही   
छोड़ कर जाना है सबको 
कैसे हो मंजूर उसको 
आखरी सांसों तलक 
वो मौत से लड़ती रही 
      
      - नीतू ठाकुर   




18 टिप्‍पणियां:

  1. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 13/03/2018 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार

      हटाएं
  2. उफ पढ़ कर सिहरन सी हो गई इतनी गहरी और इतनी हृदय को छूती अभिव्यक्ति जैसे भविष्य दिख गया स्पष्ट नीतू जी ऐसी रचनाऐं सच शब्द नही मिलते किस श्रेणी मे रखूं पर शाश्वता सत्य का मौन उद्घघोष

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शब्द नहीं हैं मेरे पास जो आभार व्यक्त कर सके।
      लिखने के बाद आप की प्रतिक्रिया ही उसकी गहराई को समझाती है।
      आप की प्रतिक्रिया के बाद ही रचना का सौंदर्य निखरता है। आभार आप के हर शब्द के लिए !!!

      हटाएं
  3. बहुत ही हृदयस्पर्शी....बहुत ही लाजवाब.....
    आखिरी सांसो तलक
    वो मौत से लडती रही....
    कटु सत्य का ऐसा शब्द चित्रण !!!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार सखी
      सुंदर प्रतिक्रिया धन्यवाद

      हटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (14-03-2018) को "ढल गयी है उमर" (चर्चा अंक-2909) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  5. समय के लड़ना मौत से लड़ना पर मौत एक ऐसा सत्य है जो आता है ...
    फिर भी लड़ना जरूरी है ... जीवन जो है ...
    गहरी रचना ... उद्वेलित करती ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर प्रतिक्रिया.... धन्यवाद

      हटाएं
  6. एक कोना न मिला छिपने का उसको मौत से.
    शाश्वत सत्य. कौन छिप सका है मौत से.
    बहुत खूबसूरत रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन आकाश को छूती पहली भारतीय महिला को नमन : ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रिय नीतू जी,आपकी यह रचना मर्म को स्पर्श कर गई । पीड़ादायक ..... पर शाश्वत सत्य है मृत्यु । मार्मिक शब्द चित्र ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      आप की प्रतिक्रिया और अच्छा लिखने की प्रेरणा देती है

      हटाएं

इल्म की सौगातें.... नीतू ठाकुर

इंतजार, इजहार, गुलाब, ख्वाब, वफ़ा, नशा उसे पाने की कोशिशें तमाम हुई, आजमाइशें सरेआम हुई अदब, कायदा, रस्में, रवायतें, शराफत, नेकी  ...