google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : एहसास कभी शब्दों का मोहताज नहीं होता ....नीतू ठाकुर

शनिवार, 24 मार्च 2018

एहसास कभी शब्दों का मोहताज नहीं होता ....नीतू ठाकुर


एहसास कभी शब्दों का मोहताज नहीं होता 
ये दुनिया कायम नहीं होती अगर एहसास नहीं होता 

एहसास बना एक गूढ़ प्रश्न कितना उसको सुलझाएं 
हर पल होता मौजूद मगर वो कभी नजर न आये 

एहसासों का भंवर जाल ऐसे मन को उलझाए 
हम  लाख निकलना चाहें पर हम कभी निकल न पाएं  

एहसास नही बंधता न भाषा न धर्म से 
बनते बिगड़ते रिश्ते अपने अपने कर्म से 

एहसास बयां कर पाएं वो शब्द कहाँ से लाऊँ    
काश  मौन अंतर मन को मै कभी जुबाँ दे पाऊँ   

                  - नीतू  ठाकुर






26 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (25-03-2017) को "रचो ललित-साहित्य" (चर्चा अंक-2920) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह!!नीतू जी ,बहुत खूबसूरत लिखा आपने ..।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रिय नीतू जी -- बहुत सुंदर बात लिखी आपने भावनाओं की कोई जुबान , धर्म या मूर्त नहीं होती | इन्हें शब्दों में व्यक्त करना नामुमकिन है | मनभावन रचना -- सस्नेह --------|

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      आप की प्रतिक्रिया देखकर मन प्रसन्नता से भर गया

      हटाएं
  4. एहसास बयां कर पाए वो शब्द कहाँ से लाऊँ
    काश मौन अंतर्मन को मैं कभी जुबाँ दे पाऊँ.... अत्युत्तम
    बेहतरीन भाव. वाह नीतू जी. 👏 👏 👏

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      आप की प्रतिक्रिया और अच्छा लिखने की प्रेरणा देती है

      हटाएं
  5. प्रिय नीतू जी,कितना सच लिखा है आपने ... भावनाओं को शब्द देकर भी इनका पूरा चित्रण करना बहुत मुश्किल है । बहुत सुन्दर रचना ।
    सादर ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      बहुत सुन्दर प्रतिक्रिया

      हटाएं
  6. एहसास भी एक बहती जलधार है
    एहसास पर एहसास से सजी सुंदर रचना
    धारा प्रवाह लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार सखी।
      कविता का मर्म बहुत अच्छे से समझती है आप।

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरती से एहसासों की गुत्थी सुलझाने की कोशिश!बेहतरीन रचना।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      कविता का मर्म बहुत अच्छे से समझती है आप।
      बहुत सुन्दर प्रतिक्रिया

      हटाएं
  9. लाजवाब अभिव्यक्ति....
    वाह!!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार
      बहुत सुन्दर प्रतिक्रिया

      हटाएं

बेखौफ लहरें .....नीतू ठाकुर

जरा तहज़ीब सिखलाये , कोई बेखौफ लहरों को  जो अक्सर तोड आती हैं , कड़े सागर के पहरों को  सुनाती हो भला क्यों यूँ , प्रलय का गीत बहरों...