रविवार, 19 जनवरी 2020

किस्मत चौसर (नवगीत)....नीतू ठाकुर 'विदुषी'



नवगीत 

खेल रही है किस्मत चौसर 
फेक रही है कैसे पासे
भ्रमित हो रहा मानव ऐसे
मानवता मिट रही धरा से
1
जीवन का उद्देश्य भुलाकर
दास बने धन को अपनाकर
तिमिर व्याप्त है सारे जग में
अंतर्मन की चीख मिटाकर

कठपुतली बन जीवन जीते, 
कौन ज्ञान के दीपक चासे
भ्रमित हो रहा मानव ऐसे
मानवता मिट रही धरा से
2
चाह सुखों की जीवन हरती
पाप पुण्य की गठरी भरती
चाह जगी अंबर छूने की
पर आशाएं हर पल मरती 

घुट घुट कर जीता है मानव
सूखे बीत रहे चौमासे
भ्रमित हो रहा मानव ऐसे
मानवता मिट रही धरा से 
3
जीवन का आभास नही है
कुछ पाने की आस नही है
हिय कुंठित व्याकुल है कितना
खुद पर भी विश्वास नही है

स्वर्थ ढूंढते रिश्ते नाते
छलते खुद को अच्छे खासे
भ्रमित हो रहा मानव ऐसे
मानवता मिट रही धरा से

नीतू ठाकुर 'विदुषी'

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर विदुषी जी मानवता के गिरते स्वरूप को केंद्रित कर बोलते बिम्ब के माध्यम से एक अच्छा नवगीत👌👌👌 बधाई स्वीकार करें 💐💐💐

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज सोमवार 20 जनवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (21-01-2020) को   "आहत है परिवेश"   (चर्चा अंक - 3587)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
  4. सुंदर रचना, आकंठ स्वार्थ में डूबा मानव भला मानवता को क्या पहचाने

    जवाब देंहटाएं
  5. नीतु दी, मानवता के गिरते स्तर को बहुत ही सुंदर तरीके से व्यक्त किया हैं आपने।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर, सटीक और यथार्थ , लाज़बाब सृजन ,सादर नमन नीतू जी

    जवाब देंहटाएं
  7. उम्मीद है, मिटेगी तो नहीं मानवता ।
    पर भ्रमित है, दुखी है ....
    सुंदर विवेचना ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर सृजन एवं सार्थक सृजन आदरणीय नीतू जी
    सादर

    जवाब देंहटाएं

आँखे भर-भर आती है....नीतू ठाकुर 'विदुषी'

 गीत  आँखे भर-भर आती है नीतू ठाकुर 'विदुषी' कितने किस्से रक्त सने से, आँखे भर-भर आती है। अश्रु धार फिर कण्टक पथ का, जल अभिषेक कराती ...