google-site-verification: google596994c475cff8d2.html MAN SE- Nitu Thakur : तेरे जाने के बाद ....नीतू ठाकुर

गुरुवार, 11 जनवरी 2018

तेरे जाने के बाद ....नीतू ठाकुर


क्या जी उठूंगी तेरे आँसुओं से 
क्या खेल पाओगे कभी मेरे गेसुओं से

ढूंढ़ने निकले हो हमको दफ़न हो जाने के बाद 
निशान नहीं मिलते है साहब दिल जलाने के बाद

मुद्दतों तेरी याद में तड़पता रहा है दिल 
वक़्त जाया न कर हस्ती मिटाने के बाद

किसी पत्थर से दिल लगा बैठे थे हम 
बहुत मुस्कुराये थे तुम हमको रुलाने के बाद

वक़्त की मार से कोई नहीं बचता 
कीमत समझ आई तुम्हें मोहब्बत खो जाने के बाद

कितने झूठे ख्वाब मेरे आँसुओं में बह गये 
आज भी आँखे है नम तेरे साथ मुस्कुराने के बाद

कितनी शिद्दत से तुम्हें चाहा था मेरे प्यार ने 
कुछ भी नहीं बचा था दिल तुझ पर लुटाने के बाद

इस कदर मुँह मोड़कर गुजरे थे तुम हमदम मेरे 
बहुत तड़पा था मेरा दिल तेरे जाने के बाद 
                - नीतू ठाकुर 

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद ब्लॉग पर 'शुक्रवार' १२ जनवरी २०१८ को लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (13-01-2018) को "कुहरा चारों ओर" (चर्चा अंक-2846) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हर्षोंल्लास के पर्व लोहड़ी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल लगाने के बाद अक्सर चोट लगती है पर सिवाय सहने के कुछ हो नहीं पता ..
    जवान के दर्द को लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं

औकात रखता हूँ .....नीतू ठाकुर

मेरे लिबास से मेरी औकात का अंदाजा न लगा  इस फटी कमीज़ में करोड़ों के बिल रखता हूँ  उधार की ज़िंदगी और मिट्टी के तन में  मोहब्बत भरा क...