शुक्रवार, 24 अगस्त 2018

जाने क्यों तेरी याद.....नीतू ठाकुर

जाने क्यों तेरी याद तेरे बाद भी रही 
हर शाम तेरे नाम तेरे बाद भी रही 

नाकाम कोशिशें की भुलाने की आप को 
ये जान तेरे नाम तेरे बाद भी रही 

कब तक तलाशते हम ख्यालों में आप को 
चाहत ये बेजुबान तेरे बाद भी रही 

आँखों में अश्क़ भरकर रूखसत वो हो गए 
उम्मीद हसरतों को तेरे  बाद भी रही 

हमको पराया कर गए शब्दों के तीर से 
हर बात तेरी याद तेरे बाद भी रही  

आँखों में नमी दिल में बसती उदासियाँ 
सौगात तेरी साथ तेरे बाद भी रही 

 - नीतू ठाकुर 

30 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद सुंदर भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह सखी बेहद उम्दा मन को गहराई तक छू गई आपकी विरह रचना सभी भाव मुखरित हो पटल पर उभर रहे हैं जैसे ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार सखी ।
      आप की प्रतिक्रिया हमेशा ही हौसला बढाती है।

      हटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (25-08-2018) को "जीवन अनमोल" (चर्चा अंक-3074) (चर्चा अंक-2968) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह्ह...बहुत खूब...प्रिय नीतू बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना👌

    जवाब देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आप का इस प्रतिक्रिया के लिए।

      हटाएं
  6. नाकाम कोशिशें की भुलाने की आप को
    ये जान तेरे नाम तेरे बाद भी रही

    बहुत बहुत शानदार ग़ज़ल। हर मिसरा बेहद लाज़वाब। पूर्णतः गायन योग्य ग़ज़ल। सरल शब्दों में गहरी बात करने का आपका अंदाज़ सीखने योग्य है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. रचना का मर्म समझने के लिए बहुत बहुत आभार। आशिर्वाद बनाये रखें।

      हटाएं
  7. बहुत बढिया भावपुर्ण रचना, नितु दी।

    जवाब देंहटाएं
  8. 👌👌👌👌वाह बेहतरीन ...
    यादै है यादों का क्या
    तेरे साथ भी तेरे बाद भी

    जवाब देंहटाएं
  9. ये जान तेरे नाम तेरे बाद भी रही ...बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक २७ अगस्त २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत खूब
    चाहत ये बेजुबान तेरे बाद भी रही

    जवाब देंहटाएं

आँखे भर-भर आती है....नीतू ठाकुर 'विदुषी'

 गीत  आँखे भर-भर आती है नीतू ठाकुर 'विदुषी' कितने किस्से रक्त सने से, आँखे भर-भर आती है। अश्रु धार फिर कण्टक पथ का, जल अभिषेक कराती ...